Pak occupied Kashmir यानी कि “पाक अधिकृत कश्मीर” लेकिन पूरी दुनिया जानती है कि यह अधिक समय तक पाक अधिकृत नहीं रहेगा क्योंकि हाल ही के दिनों में जिस तरह का रवैया भारत सरकार का रहा है देखकर तो यही लग रहा है कि गिलगित बालटिस्तान की जमीन भारत सरकार पाकिस्तान के कब्जे से छुड़वाने वाली है क्योंकि पिछले कुछ दिनों में हमने बहुत सी ऐसी चीजें देखी जिनसे यह साबित होता है कि भारत बहुत जल्द कुछ कड़क फैसला लेने वाला है,

पिछले कुछ दिनों में हमने देखा कि किस तरह से भारत के मौसम विभाग ने गिलगित बालटिस्तान और सारे पीओके का मौसम दर्शाने का काम शुरू किया इससे तो यही साबित होता है कीभारत साफ-साफ कह रहा है कि पाकिस्तानियों जय हमारी जमीन है तो मैं इधर से निकलना होगा,

दोस्तों आजादी के दौर से ही सभी भारत वासियों का यही संकल्प रहा है कि भारत के ताज को सुरक्षित किया जाए और संयुक्त किया जाए और साथ ही साथ भारत में संलिप्त किया जाए तो भारत का ताज भारत में संलिप्त तो हो ही गया है आप जानते होंगे कि किस तरह से नरेंद्र मोदी ने कश्मीर का स्पेशल दर्जा हटा दिया था अभी बारी है कश्मीर को संयुक्त करने की,

लेकिन जो हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे में है और जो चाइना के कब्जे में है,आपको बता दें कि पीओके का कुछ हिस्सा पाकिस्तान ने चीन को तोहफे में दे दिया था इन मक्कार पाकिस्तानियों को तो तोहफे देने का मतलब ही नहीं पता अगर उपहार ही देना था तो अपने सरजमी से देते,

यह तो वही बात हो गई कि किराएदार घर का दरवाजा निकालकर भेज दे, लेकिन यह पाकिस्तानी तो किराएदार भी नहीं है यह तो नाजायज कब्जा जमा कर बैठे हैं लेकिन आपको बता दें कि यह अधिक दिन नहीं चलने वाला पाकिस्तानियों के गलत रवैया जल्द ही ठप होने वाले हैं,

लेकिन हमें भारत सरकार पर पूरा भरोसा है कि भारत सरकार चाइना और पाकिस्तान से पीओके को वापस भारत में मिलाने में कामयाब रहेगी,क्योंकि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले भी ऐसे कई कारणों में कर दिखाए हैं जो कि नामुमकिन से प्रतीत होते थे, भगवान करे इस बार भी सभी काम हमारे सोच अनुसार ही हो और हमारे घटिया पड़ोसियों को सबक मिल जाए,

अब आपने देख लिया होगा कि किस तरह से भारत के मौसम विभाग ने जम्मू कश्मीर लद्दाख के साथ ही मुजफ्फराबाद और गिलगित बालटिस्तान का मौसम भी अपने पूर्वानुमान में बताना शुरू कर दिया है हालांकि यह बहुत पहले हो जाना चाहिए था क्योंकि गिरगिट बालटिस्तान और यह सभी प्रकार की जगह जिस पर पाकिस्तान नाजायज हक जता रहा है यह भारत की अपनी है यह भारत की सरजमी है इसलिए भारत को पहले ही इस पर अधिकार जताने शुरू कर देने चाहिए थे, अब आप ही सोचिए कि जो हिस्सा हमारे देश का अंग है जो हमारी जमीन है आखिर उस पर फैसले लेने का अधिकार हमारा क्यों नहीं है अब भारत सरकार ने अपना रवैया बहुत सख्त कर लिया है और साफ-साफ कह दिया है कि हमारी जमीन पर हम जो कुछ करें पड़ोसियों को तकलीफ क्यों हो, चलो शुरुआत मौसम विभाग ने ही कर दी “देर से आए दुरुस्त आए”

आपको बता दें कि शुरुआत तो मौसम बताने से हुई है लेकिन जल्द ही आप पीओके में तिरंगा लहरता देख पाएंगे,

मीडिया का इस पर क्या कहना है ?

चलिए देख लेते हैं दोस्तों की दुनिया भर का मीडिया इस विषय पर क्या कह रहा है सबसे पहले शुरुआत करते हैं पाक मीडिया से पाक मीडिया की घटिया हरकतों से तो आप पहले ही वाकिफ होंगे कि इनको डिबेट के नाम पर चाय की चुस्कियां लेने आती है यह बुड्ढे डिबेट्स में चाय पीने के लिए ही तो आते हैं, क्योंकि भूखे नंगे पाकिस्तान में इनके घर पर तो कुछ है नहीं बाजार से ला नहीं सकते क्योंकि भैया महंगाई बहुत है,

ऊपर वाली वीडियो पूरा देखिएगा आपको बहुत मजा आएगा लेकिन इससे भी ज्यादा मजा आने वाला है आपको एबीपी न्यूज़ इंडिया की लेटेस्ट डिबेट को देखकर हमने यह पूरी 45 मिनट की डिबेट लाइव देखी झूठ नहीं बोलेंगे मजा आ गया क्योंकि इसमें साथ में दो पाकिस्तानी पत्रकार भी थे जो अपनी बेज्जती खुद अपने मुंह से कर रहे थे, और भारतीय मीडिया ने भी देखिए पाक मीडिया के पत्रकारों को किस तरह से धोया ABP news क की मुख्य पत्रकार डूबी ने तो यहां तक कह दिया कि तुम किस इमरान खान की बात करते हो “हाथ में कटोरा लेकर 500 ₹500 भीख मांगने निकलता है

पीओके का मुद्दा उस समय बहुत ज्यादा उठाव कर गया जिस समय मोटा भाई ने भरी संसद में सरेआम कह दिया कि हम पीओके के लिए जान भी दे देंगे,

कुछ मुख्य हेडलाइंस

  • पाकिस्तान से पीओके पर अवैध कब्जा छोड़ने को कहा गया,
  • पीओके में आतंकियों के शिविरों पर गंभीर चिंता जताई गई,
  • भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप पर चेतावनी दी गई,

पीओके के प्रति भारतीयों का रवैया

  • नरेंद्र मोदी : 28 अक्टूबर 2019 “पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की कसक मेरे अंदर”
  • अमित शाह : 6 अगस्त 2019 “जम्मू कश्मीर में पीओके शामिल”
  • राजनाथ सिंह : 18 अगस्त 2019 “अगर पाकिस्तान से कभी बात होगी तो सिर्फ पीओके के मुद्दे पर”
  • वेंकैया नायडू : 28 अगस्त 2019 “पाकिस्तान से सिर्फ पीओके पर बात होगी”
  • एस. जयशंकर : 17 सितंबर 2019 “पीओके भारत का भौगोलिक हिस्सा है”
  • जितेंद्र सिंह : 10 सितंबर 2019 “अगला एजेंडा पीओके को भारत में लाना”

अखंड जम्मू कश्मीर को जानिए

  • पाक ने 1963 में चीन को 5180 किलोमीटर हिस्सा दिया,
  • चीन के अवैध कब्जे में 37 हजार 555 किलोमीटर हिस्सा,
  • भारत के पास सिर्फ 101387 किलोमीटर हिस्सा,

पाकिस्तानी मीडिया के एंकर हमेशा ही मोठा कर भारत को गलत बोलने में लगे रहते थे और बार-बार कहते थे कि भारत की क्या औकात है अब भारत बताएगा की किस की क्या औकात है, क्योंकि भारत अब 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी की तरफ आगे बढ़ रहा है, Covid-19 की वजह से हालात नाजुक है लेकिन पाकिस्तान की तरह हाथ में कटोरा लेकर भीख नहीं मांगनी पड़ रही है,

अगर आप एक सच्चे भारतीय हैं तो कमेंट में जय हिंद लिखें ताकि हमें भी पता चले कि हमारे साथ कितने लोग खड़े हैं,

जय हिंद जय भारत

One Reply to “क्या भारत पीओके वापस ले लेगा ? देखिए पूरी रिपोर्ट”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *